Friday, 18 August 2017

बिहार का सृजन घोटाला एक हज़ार करोड़ के पार

- अंजनी विशु/ १९.८.२०१७


भारत के सबसे गरीब, वंचित और पिछड़े राज्यों में एक, उत्तर भारत का राज्य, बिहार, संभ्रांत सत्ताधारियों की लूट और शोषण का शिकार रहा है।

इस बार समाज-कल्याण के नाम पर बड़े घोटाले का पर्दाफाश हुआ है जो लम्बे समय से जारी था और जिसके तार सत्ता पक्ष के उच्चस्थ अधिकारियों और राजनीतिज्ञों से सीधे जुड़े हैं.

महिला विकास के नाम पर चलाए जा रहे एन.जी.ओ, ‘सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड’ ने अब तक के जांच खुलासे के अनुसार एक हज़ार करोड़ रूपये से अधिक सरकारी खजाने से लूटे हैं। जांच अभी जारी है और इस लूट के विस्तार की सम्भावना है। इस लूट में सत्ता के सफेदपोश नेताओं से लेकर सरकारी पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग व बैंक के पदाधिकारी तक शामिल हैं।

Sunday, 13 August 2017

Horrors of Capitalism Resurface as the Death Toll Continues to Mount in Gorakhpur Tragedy

- Rajesh Tyagi/ 14.8.2017


Bureaucratic apathy, integral to the capitalist regime, resulted into virtual genocide when a bill dispute between oxygen supplier and the state medical college at Gorakhpur City in North India landed into a shutdown of oxygen supply in the state hospital, leaving more than 60 kids dead in three days. Matter came under spotlight only after 30 kids lost their lives overnight on August 11. As oxygen supply was stopped, children, admitted in the hospital for treatment of encephalitis, badly wriggled for breath before their death. Oxygen is part of critical support in treatment of the deadly Japanese encephalitis.

Bills worth rupees 69 lakhs of the supplier company were pending for months together. Despite clear warnings and ultimatums, neither payments were made to the supplier, nor any alternative arrangements were made to procure oxygen from other enlisted suppliers.

Gorakhpur is the constituency of Yogi Adityanath, the Chief Minister of Uttar Pradesh, a north Indian province.

Monday, 31 July 2017

Shibdas Ghosh and his SUCI: The Apostles of Unbridled Political Opportunism!

-Rajesh Tyagi/ 31.7.2017


SUCI, renamed in 2009 as SUCI (C), is one of the five main Stalinist Parties in India. Organised by Shibdas Ghosh in 1948, the Party had only two congresses till date: first in 1988 and second in 2009.

Despite its proclamations to the contrary, over a period of around 70 years, SUCI has consistently practised core opportunism- crude economism outside and political cretinism inside the Parliament. Inside Parliament and legislative assemblies, SUCI has sought every opportunity to hang out with this or that bourgeois party. On the ground, since its inception it has swooped down to economism, focusing on agitations on petty everyday issues coupled with massive box collections, as its chief activity.
   
For instance, during the last Assembly elections in West Bengal, SUCI (C) alongwith CPI (Maoist) had supported the rabid right-wing bourgeois TMC under Mamata Banerjee and assisted it to come to power defeating the 34 year old Stalinist Left-front government led by CPM. Later, kicked aside by TMC immediately after the polls, Provash Ghosh, the General Secretary of the disgraced and humiliated SUCI, wearing a grin, said in a press statement, "The CPM government had turned ‘anti-people’ therefore it was extremely important to end their 34-year tenure in the state. Asserting that “SUCI had made an alliance with TMC for the sake of people of West Bengal”, he added that “Our main target of dislodging the CPM led government has been achieved, and we are no longer an ally of TMC.”

Thursday, 27 July 2017

बिहार में राजनीतिक संकट, बूर्ज्वा जनवाद के स्थायी संकट का हिस्सा है!

- राजेश त्यागी/ २७.७.२०१७


बिहार के मुख्यमंत्री नितीश ने राजद-जदयू गठबंधन तोड़ते हुए त्यागपत्र दे दिया. बिहार में इस गठबंधन के टूटने से भाजपा के विरुद्ध देशव्यापी विपक्षी गठबंधन की बची-खुची संभावनाएं और धूमिल हो गईं.

नितीश के त्यागपत्र का फौरी उद्देश्य, प्रतिपक्षी राजद और उसके नेता लालू यादव को किनारे लगाना और भाजपा नीत केंद्र सरकार के साथ पटरी बिठाना है. नितीश द्वारा त्यागपत्र की घोषणा के चंद घंटों के भीतर ही भाजपा ने बिहार में न सिर्फ नितीश को समर्थन बल्कि सांझी सरकार की घोषणा कर दी. यह संदेह से परे है कि नितीश ने लम्बे समय से भाजपा से सांठगांठ की थी और नई सरकार के लिए रास्ता साफ़ कर लिया था.

माओवादियों से हमारे मतभेदों के प्रश्न पर

-राजेश त्यागी/ ९.५.२०१०
अनुवाद- कल्पेश डोबरिया 

माओवाद के विरुद्ध अपने संघर्ष में हम सबसे पहले यह स्वीकार करते हैं कि कई ऐसे ईमानदार और प्रतिबद्ध कार्यकर्ता, माओवादी आंदोलन से जुड़े हैं, जो अपने चारों ओर व्याप्त और निरंतर हो रहे अन्याय को खत्म करने की इच्छा से अनुप्रेरित हैं। लेकिन साथ ही हम यह जोड़ना चाहते हैं कि सिर्फ ऐसी प्रेरणाएं, समाज के क्रान्तिकारी रूपांतरण के लिए पर्याप्त नहीं हैं, और वे सामाजिक वास्तविकताओ की गंभीर एवं वैज्ञानिक समझ के विकास का कोई विकल्प प्रस्तुत नहीं कर सकतीं।

स्टालिनवाद के चीनी संस्करण, माओवाद में, क्रांतिकारी मार्क्सवाद जैसा कुछ नहीं है। स्तालिनवादियों के साथ मिलकर, उन्होंने पिछड़े देशों में युवाओ और मज़दूरो की पीढ़ियों को गलत शिक्षा देकर दिग्भ्रमित किया है तथा उन्हें क्रांति के पथ पर आगे बढ़ने से रोका है।

यहां हम माओवाद से अपने मतभेदों और दृष्टिकोण को क्रमशः और संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं:

Wednesday, 19 July 2017

Destruction of the Second Wave of the Chinese Revolution by Stalinist Comintern, Emergence of Maoism and the Struggle of Left-Opposition under Trotsky for Rearming of the Revolution!

- Rajesh Tyagi

Last decade of 20th century had been witness to crumbling down of decaying Stalinist regimes, in USSR and countries of Eastern Europe- i.e. Germany, Hungary, Poland, Bulgaria, Yugoslavia, Czechoslovakia and so on. The historic mission of Capitalism for a world conquest, cut halfway by the mighty tide of October Socialist Revolution of 1917, thus completed itself, towards the end of 20th century.

Amazingly, Leon Trotsky, the co-mentor with Lenin, of the Russian Revolution and the Third International (Comintern), had long ago predicted this end of the destiny of Stalinism. In no ambiguous terms Trotsky claimed that Soviet Russia under Stalin, would either degenerate or fall. Rather, he said, it would first degenerate and then fall. Soviet Russia had completely degenerated into a bureaucratic state during lifetime of Stalin himself, continued to decay further after him and ultimately fell to its destiny as predicted by Trotsky. Its satellite formations in Europe, which had copied its model, shared the same fate with it. China, the Asian model of Stalinism, has joined the voyage of world capitalism, with its bureaucratic apparatus and red flag.

दिशासंधान का मंदबुद्धि संपादक और सतत क्रान्ति का ट्रॉट्स्की का सिद्धांत

- राजेश त्यागी

अपने बेटे अभिनव को नेता बनाने को लालायित शशि प्रकाश ने उसके नाम से अपनी पारिवारिक पत्रिका 'दिशासंधान' में “त्रात्स्कीपन्‍थ से लेनिन के नेतृत्व में बोल्शेविकों का संघर्ष” नामक जो लेख लिखा है उस पर हमने क्रमशः टिप्पणियों की एक श्रृंखला प्रकाशित की है, जिसकी पांच क़िस्त नीचे प्रस्तुत है:
__________________


क़िस्त-१ 

सर्कस के शो में शेरों के चले जाने के बाद, जोकर मंच पर आते हैं शेरों की नक़ल करने और अगले शो तक उछल-कूद करते दर्शकों का मनोरंजन करने. ऐसे ही मंदबुद्धि जोकर हैं RCLI वाले, ‘दिशासंधान’ के संपादक!